बातों बातों में दिल ले जाते हो, देखते हो इस तरह जान ले जाते हो, अदाओं से अपनी इस दिल को धड़काते हो, लेकर बाहो में सारा जहां भूलाते हों।।

एक ही तमन्ना, एक ही आरजू, बाँहों में पनाह में तेरे, सारी जिंदगी गुजर जाये।

तुम्हारी बांहों में हमें, जन्नत मिल गई सारी, खुदा से बोलू की अपनी, जन्नत अपने पास ही रख।।

सिर्फ एक बार गले से लगाकर मेरे दिल की धड़कन सुन, फिर लौटने का इरादा हम तुम पर छोड़ देंगे।

एक ख्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर, वो आ कर गले लगा ले, इजाज़त के बगैर

और अधिक हग डे पर शायरी 2024 पढने के लिए नीचे क्लीक करें -