कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन की वजह से जहां नौकरियां छूटने और उद्योग धंधे आदि ठप होने से युवा परेशान हैं, वहीं बच्चों की मुश्किलें भी कम नहीं। स्कूल बंद पड़े हैं, ऐसे में उन्हें ऑनलाइन पढ़ाई का सहारा लेना पड़ रहा है। कुछ सरकारें बच्चों को घर पर ही स्कूल जैसा माहौल देने की कोशिश कर रही हैं।

मध्य प्रदेश सरकार ने भी हमारा घर हमारा विद्यालय योजना से ऐसी ही एक कोशि की है। यह योजना राज्य के स्कूली शिक्षा विभाग की है। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इस योजना का शुभारंभ किया जा चुका है।

मध्य प्रदेश सरकार ने इस योजना को शुरू किया है। इसका शुभारंभ 27 जून को राज्य की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी ने किया है। मध्य प्रदेश के शिक्षा मंत्री प्रभु राम चौधरी ने इसे एक बेहतरीन आइडिया करार दिया है। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये शुरू की गई यह योजना आने वाली छह जुलाई से लागू हो जाएगी।

इस योजना को विशेष तौर पर इसलिए शुरू किया गया है, ताकि कोरोना संक्रमण के चलते जारी लॉकडाउन के दौरान छात्र-छात्राओं की शैक्षणिक नियमितता बनी रहे। बच्चे पढ़ाई से दूर न हों, लगातार पढ़ाई करें। आप जानते ही हैं कि संक्रमण के डर से स्कूलों, कालेजों में पढ़ाई बंद है और ऑनलाइन शिक्षा छात्र छात्राओं के लिए एक नया जरिया साबित हो रही है।

यह एक नई ऑनलाइन शिक्षा योजना है। इसकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि इसके तहत घर में ही बच्चों को विद्यालय जैसा वातावरण उपलब्ध कराया जाएगा। यही वजह है कि इस योजना का नाम हमारा घर हमारा विद्यालय योजना-2024 रखा गया है। उम्मीद की जा रही है कि घर में ही बच्चों को शिक्षा प्रदान करने में इस योजना के जरिये सहूलियत होगी।

योजना के माध्यम से छात्र छात्राओं के लिए घर पर ही विद्यालय जैसा वातावरण तैयार किया जाएगा। इसके तहत कक्षा एक से लेकर कक्षा आठ तक के बच्चों को शामिल किया गया है। जिस तरह स्कूल में हर पीरियड शुरू होने के संकेत के तौर पर घंटी बजाई जाती है, इसी तरह छात्रों के लिए हर घर में हर सुबह स्कूल की घंटी बजेगी। इसके साथ ही पढ़ाई शुरू हो जाएगी।

योजना के तहत कक्षाएं शुरू होने का समय सुबह ठीक दस बजे नियत किया गया है। आपको बता दें कि कक्षाएं सोमवार से शुक्रवार तक चलेंगी।और प्रत्येक कक्षा एक घंटे की होगी। शनिवार को मस्ती की पाठशाला का आयोजन किया जाएगा। इस विशेष कार्यशाला में बच्चों के लिए मनोरंजक गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा।

आपको बता दें कि योजना के तहत जिस तरह बच्चे स्कूल में एक टाइम टेबल के आधार पर पढ़ाई करते हैं, उसी तरह से बच्चे घर में भी स्कूल की ओर से तैयार किए गए टाइम टेबल का पालन करेंगे। कक्षा एक और दो, तीन से लेकर पांच और छह से लेकर आठ तक के छात्र छात्राओं के लिए अलग अलग टाइम टेबल और वर्कशीट भी तैयार की गई है।

कक्षाओं के अनुसार कक्षा छह से लेकर आठ तक के बच्चों को स्किल अपग्रेडेशन पर आधरित वर्कशीट भरवाई जाएंगी। बच्चे क्लास वर्क करेंगे और इसी के आधार पर बच्चों को होम वर्क भी दिया जाएगा।

हमारा घर हमारा विद्यालय योजना  की अधिक  जानकारी के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें?